NDTV ने भारत में बनी Coronavirus vaccine के बारे में फैलाई Fake News, हैल्थ मिनिस्ट्री ने दी जानकारी

Coronavirus: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि उसने सेरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक (Serum Institute and Bharat Biotech) से कोरोनवायरस वायरस के टीके के लिए इमरजेंसी उपयोग प्रस्तावों को अस्वीकार नहीं किया है। मंत्रालय ने कहा कि NDTV की यह न्यूज़ रिपोर्ट फर्जी (Fake) है।

NDTV ने भारत में बनी Coronavirus vaccine के बारे में फैलाई Fake News, हैल्थ मिनिस्ट्री ने दी जानकारी

गौरतलब है की NDTV द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि सीरम संस्थान और भारत बायोटेक के अपने कोरोनवायरस वायरस के इमरजेंसी उपयोग के प्रस्तावों को अपर्याप्त सुरक्षा और प्रभावकारिता डेटा पर मंजूरी नहीं दी गई थी।

आगे रिपोर्ट में बताया गया है कि दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने 6 दिसंबर को ऑक्सफोर्ड वैक्सीन, कोविशिल्ड के लिए अनुमोदन का अनुरोध किया था, और भारत बायोटेक ने अपने स्वदेशी रूप से विकसित COVID-19 वैक्सीन कोवाक्सिन के आपातकालीन उपयोग अनुमोदन के लिए आवेदन किया था।

हालांकि, स्वास्थ्य मंत्रालय और पीआईबी फैक्ट चेक के ट्विटर हैंडल ने कहा "कि रिपोर्ट पूरी तरह से नकली है, और प्रस्तावों को अस्वीकार नहीं किया गया है।"

लेकिन एक बात गौर करने की है की सरकार ने सिर्फ NDTV की ही रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया दी, लेकिन इसे कई अन्य मीडिया हाउसों द्वारा भी चलाया गया था। News18, India Today, CNBC TV 18 और कई अन्य मीडिया ने इसी तरह की खबरों को लेकर दावा किया था कि डेटा के अभाव में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक के कोविद -19 टीकों को आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण नहीं दिया गया है। हालाँकि अब मिनिस्ट्री ने इसे फेक न्यूज़ करार दिया है।

Post a Comment

Previous Post Next Post