भारतीयों के लिए अच्छी ख़बर, अमेरिकी कोर्ट ने H-1B Visa पर Donald Trump का फैसला ख़ारिज किया

California: अमेरिका (America) में काम करने वाले भारत के प्रोफेशनल्स (Professional) के लिए अच्छी खबर आयी है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की सरकार के द्वारा H-1B वीजा (Visa H-1B) कार्यक्रम में किए गए बदलाव को अब अमेरिकी कोर्ट ने सिरे से खारिज कर दिया है। अब कोर्ट के इस निर्णय के बाद भारतीय कुशल कारीगर यानी प्रोफेशनल्स (मुख़्य रूप से टेक प्रोफेशनल्स) अब अमेरिका में पहले की ही तरह रहकर काम कर सकेंगे।

भारतीयों के लिए अच्छी ख़बर, अमेरिकी कोर्ट ने H-1B Visa पर Donald Trump का फैसला ख़ारिज किया

COVID19 के बाद इस वर्ष अक्टूबर में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप (Donald Trump) ने H-1B वीजा कार्यक्रम में बड़ा बदलाव करने का निर्णय लिया था। और इस निर्णय के लिए ट्रंप प्रशासन का यह मानना था कि कोरोना के कारण बहुत सारे अमेरिकियों की नौकरी गई है तो बाहर से आने वाले लोगों को रोक कर स्थानीय लोगों को वो नौकरी दी जा सकती हैं (जैसा उन्होंने अपने चुनावी रैलियों में कहा था "अमेरिका फर्स्ट")। 

कैलिफोर्निया (California) के डिस्ट्रिक्ट जज जेफेरी व्हाइट ने H-1B वीजा पर ट्रंप के आदेश को रद्द करते हुए कहा कि सरकार ने यह निर्णय लेते हुए पूरी तरह पारदर्शिता की प्रक्रिया का पालन नहीं किया। साथ ही कोर्ट ने कहा की सरकार द्वारा कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के कारण गई लोगों की नौकरियों की वजह से निर्णय लेने की दलील पूरी तरह गलत है। जस्टिस जेफेरी ने आगे कहा की, "COVID19 ऐसी महामारी है जो किसी के वश में नहीं है, लेकिन इस मामले में और सचेत होकर कार्रवाई की जा सकती थी।"

गौरतलब है की ट्रम्प प्रशासन के इस फैसले के बाद से ही कई विदेशी प्रोफेशनल्स की भर्ती करने वाली कंपनियों पर कई तरह की पाबंदियां लगा दीं गयी थी, और एक्सपर्ट्स का मानना था की नए नियम इतने सख्त है कि करीब एक-तिहाई आवेदकों को H-1B वीजा नहीं मिल ही पायेगा। लेकिन हालहिं में संपन्न अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावो में सत्ता बदलने के बाद ट्रंप (Donald Trump) के इस आदेश को भी बदल दिया गया है।

मालूम हो की, US government हर वर्ष बाहर से आने वाले तमाम क्षेत्र में काम करने वाले प्रोफेशनल्स के लिए 85 हजार H-1B वीजा जारी करती है। इसमें आईटी प्रोफेशनल्स की संख्या सबसे अधिक है। US में फिलहाल करीब 6 लाख H-1B वीजा होल्डर काम कर रहे हैं। इनमें से ज्यादातर इंडिया के ही हैं। दूसरे नंबर पर चीन के प्रोफेशनल्स हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post